रुचि के स्थान

देवीधुरा

चंपावत में आने वाले सर्वश्रेष्ठ स्थानों में से यह एक है, यह क्षेत्र सामान्य रूप से वराही मंदिर के रूप में जाना जाता है | बग्वाल मेला जो कि एक सांस्कृतिक विरासत है को सामान्यतः रक्षा बंधन के दिन खेला जाता है | प्रसिद्ध लेखक और शिकारी जिम कॉर्बेट की पुस्तक ‘टेंपल टाइगर’ देवीधुरा के मंदिरों के साथ संबद्ध है जो कि इस जगह को देखने के लिए आगंतुकों के अधिक आकर्षण का परिणाम है |

नागनाथ मंदिर

भगवान शिव का पूजा स्थान जो कि वास्तुकला के सबसे बेहतरीन उदाहरणों में से एक है |

एक हथिया  नौला

यह कारीगरी का एक उत्तम उदाहरण है, जो एक हाथ के कारीगर द्वारा बनाई गई है। यह चंपावत से सिर्फ 5 किमी दूर है |

बालेश्वर मंदिर –

बालेश्वर मंदिर में भगवान शिव की पूजा होती है। यह काम शिल्प और उसके आकार के अनुसार चंद शासकों के प्रसिद्ध कार्यों में से एक है | हांलांकि पुरातत्वविद इसके निर्माण का सटीक समय नहीं बता पाए हैं, परंतु उन्होंने यह अनुमान लगाया, यह 10 – 12 शताब्दी एडी के बीच में निर्मित हो सकता है।

क्रांतेश्वर महादेव

चंपावत के पूर्व क्षेत्र में स्थित सबसे पवित्र स्थानों में से एक, यह कुर्मापद या कंडेव के रूप में भी  जाना जाता है।

मीठा रीठा साहिब

चंपावत से लगभग 72 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यह सिख समुदाय के लिए महत्वपूर्ण पूजा स्थान है। यह भी मान्यता है कि गुरु नानक और गोरखपंथी जोगी गुरु ने यहां पर चर्चा की | यह देयरी गांव के निकट लोढ़िया और रतिया नदियों के किनारे बसा है |

लोहाघाट

यह शहर चंपावत से 14 किलोमीटर दूर स्थित है। यह सुंदर क्षेत्र लोहवाती  नदी और घने देवदार के मध्य बसा है |

पूर्णागिरी  मंदिर

यह खूबसूरत स्थान चंपावत से 92 किलोमीटर दूर  टनकपुर में स्थित है | पूर्णागिरी की पहाड़ियों से सुंदर सूर्योदय देखने की यह सबसे अच्छी जगह है | यह गंतव्य (पूर्णागिरी  मंदिर)  विशाल संख्या में श्रद्धालुओं की आस्था के केन्द्र के रूप में प्रसिद्ध है। पूर्णागिरी  मंदिर में महोत्सव का सत्र मार्च-अप्रैल नवरात्रि सीजन के महीने में शुरू होता है। यह मंदिर क्षेत्र काली नदी, इसके द्वीप समूह, टनकपुर के टाउनशिप और विभिन्न प्रवासियों के गांवों से घिरा हुआ है।

मायावती आश्रम

यह चंपावत से 9 किमी दूर है |इस आश्रम की शांति और सुन्दरता ने दुनिया भर से कई अध्यात्मवादों को आकर्षित किया  है। 1901 में मायावती में स्वामी विवेकानंद की यात्रा के दौरान, उन्होंने अपने प्रकाशन कार्यालय ” प्रबुद्ध भारत ” को मद्रास से मायावती आश्रम स्थान्तरित करने का फैसला किया |

एबॉट माउंट-

सर्वश्रेष्ठ हिमालयी शिखर में से एक, जो आपको आकर्षक अनुभव देता है।

बाणासुर का किला

यह चंपावत से लगभग 17 किमी दूर है |इस स्थान पर महान सम्राट बनसुर (बाणासुर) की हत्या हुई थी।

पंचेश्वर

पंचेश्वर चंपावत से 40 किलोमीटर दूर है। यह दो नदियों काली और सरयू का मिलन स्थान है | यह स्थान नेपाल सीमा के लिए बिल्कुल नजदीक है और शिव मंदिर के लिए बहुत तरह से प्रसिद्ध है, यहां चोमू देवता की पूजा पशुओं के रक्षक के रूप में की जाती है|

श्यामलाताल

यह जगह स्वामी विवेकानंद आश्रम के लिए प्रसिद्ध है, जो खूबसूरत श्यामलाल झील के किनारे में स्थित है। यह चंपावत से लगभग 56 किलोमीटर दूर है|